स्नेह और आशीर्वाद के साथ

21 अगस्त 2010

कुछ लिख रहे थे गुपचुप-गुपचुप और देखा तो बन गईं आँखें

आजकल लिखने, पढने का शौक चढ़ा है. कभी न कभी कोई कागज़ पेन लेकर कुछ भी बनाते रहते हैं।
ये पता नहीं क्या बन रहा पर हम तो सबको बताते हैं कि ये आँखें बनीं हैं।
आप भी देखो और बताओ कि क्या आँखें ही बनीं हैं?



क्या लगा आपको?
हम लिखने के साथ साथ पढ़ते भी हैं। सामने रखा बॉक्स भी तो देख लीजिये।


हमारी बनाई आँखें और पास से देख लीजिये।


बाकी कभी बाद में।
नमस्ते

2 टिप्‍पणियां:

ashwani ने कहा…

bahut sundar banin hain. ham kal ghar aakar dekhenge.

ashwani ने कहा…

bahut sundar banin hain. ham kal ghar aakar dekhenge.