स्नेह और आशीर्वाद के साथ

18 नवंबर 2011

हो जाए कुछ खाना-पीना -- सौंवीं पोस्ट

हमारे घर में सभी लोग कहते हैं कि हम खाने-पीने में बहुत आनाकानी करते हैं। कोई भी चीज खाने को दी जाती है हम नहीं खाते हैं। अब हम कैसे बतायें कि हमें हर एक चीज अच्छी भी नहीं लगती है। हमें जो पसंद है वह हम आसानी से खा लेते हैं।

अब आप सभी लोग देखिये इस फोटो में, हम कुछ खा रहे हैं या नहीं। अब हम समय भी हर एक चीज तो खाई नहीं जा सकती है। हमारी ये फोटो सुबह-सुबह की है और इस समय सभी लोग चाय-नाश्ता करते हैं तो हम भी नाश्ता कर रहे हैं। अभी हम छोटे हैं तो चाय तो पीते नहीं हैं, दूध पीते हैं वो भी हॉर्लिक्स मिला कर। दूध के साथ में हम बिस्किट, दालमोंठ, कॉर्नफ्लैक्स आदि खा लेते हैं।

दादी ने हमें कॉर्नफ्लैक्स दे दिये हैं कटोरी में और हम इसके साथ दूध पीते हैं। इसमें दूध मिलाने पर हमें यह अच्छा नहीं लगता है। देखो हम कितने मजे से खा रहे हैं, कॉर्नफ्लैक्स...अब इसके बाद दूध पियेंगे। हां, आप सभी लोग ये वाली जो रंगीन सी कुर्सी-मेज देख रहे हैं, वो हमारे मामा ने हमको दिलवाई थी। इसमें गेम भी है और ए, बी, सी, डी भी पूरी लिखी हुई है। हमें पूरी याद भी है, हम कभी बाद में आपको सुनायेंगे।

------------------------------

आज एक और विशेष बात आपको बतायें कि यह हमारी सौवीं पोस्ट है। हालांकि हम बहुत दिनों से ब्लॉग पर हैं तथापि हमारी हमारी पोस्ट बहुत ही देर से सौ की संख्या तक पहुच पाई है। कोई बात नहीं, अब कोशिश करेंगे कि जल्दी-जल्दी आप सभी लोगों से बात हो जाया करे।

3 टिप्‍पणियां:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

Badhai Ho Apko ....

"रुनझुन" ने कहा…

सौवीं पोस्ट की बहुत-बहुत बधाई!!!

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

सौवीं पोस्ट...वाह..मुबारक हो !